You are currently viewing Healthy – Diet | हेल्दी डाइट

Healthy – Diet | हेल्दी डाइट

Often, it always comes to our mind that we are not healthy or we are so weak and feels depressed,  stressed, or tense because of underweight, overweight, or obese, always thinks that we are so unfit and always feels uncomfortable going out because of such bad shape, thinking that you’ll be the center of the table of whom the thunder of laughter burst on and blah….. blah…

thinking such things makes the person even more weak, which compels the man to use such irrelevant methods, wrong diet,undereating (eating less), wrong pills or using such cheapy powders, because of what,  right nutrition and nutrient didn’t get into the body and fall in the trap of many kinda disease such as baldness, overstress,   depression, and many such mental disorders andin the end,.. we give up.

Being healthy and fit & fine is what we all desires for. But will it ever be true in this wrong-eating world?

these days, people are approaching the wrong direction they are having the wrong food, (fast food), having the meal at the wrong time, following the wrong routine, having the wrong air ( of pollution or of greediness whatever you can say ), and abstaining from eating mommy’s hand food, the healthiest food in the world. Getting lazy day by day and just want everything to be done automatically.

Having a wrong diet, at the wrong time, loads of work has made a man anxious and had given loads of stress. instead of thinking about himself  and his loved ones, he is just thinking about money and power, wow, to the greediness  ( what a  greediness. isn’t it?)   
that’s the reason why lots of diseases have trapped a man in its grip and now we are facing this huge pandemic —-coronavirus.  
which will gonna go with us in our life just like hand in hand because it is something which is never gonna stop. This is happening only because of the greed and selfish mind of the people.
we are just having selfish surroundings.   , having good health and good nature and happiness are the things just we want

Wake up as early as you can, if you ask me wake up at least at 4 or 5 am, as it’s the best time to get up. have a nice and good morning walk. spend as much time with your family and your loving ones as you can.

 say thanks to god for everything ( worship him and thank him for giving you a chance for letting you see a new morning in your life.) greet your mom and dad and your elders after you wake up. it’ll bring positivity to your life which makes a good impact on your surrounding. it is always good to have the hand of your elders on your head.  

It Is believed that starting a day with a thunder of clap will bring a lot of happiness in your life ( as it brings positivity to your home, will boost up your blood circulation, helps you to get a load of energy and the best part is that it’ll help you to get rid of those unwanted and ugly looking spectacles)  so, start a day  with a thunder of clap (at least 50 – 100 times)

try out some exercises,  yoga, especially pranayam it’ll help you to get calm and peace in your life and who is not aware of the benefits of exercise it helps you to have a good posture, sharp mind, good behavior, rid from those sticky and annoying diseases and ….what else do you need.

along with the exercises, yoga, and the other kinds of stuff, one must put an eye on their intakes as well. what’re you consuming? Is it good for your health or not? Are you really having the right food or not?  do You have harmful things like intoxication or something else that harms your body and mind and behaviors, which is compelling you to make distance from your close ones and your loved ones?

Try to make yourself happy, try to be happy. ( just cool out and relax ) life is just one, it’s not the game that has 2 – 3 chances left ….it’s about your only life. so, learn to live in the moment.

In  the life of the race, you should  spend some time with you at least 10- 15 minutes you should spend some time with yourself ( the time you know…. it’s my time kinda  thing….)

always eat at the time and should have fresh and healthy four types of fruits.  At noontime, have 2 plates near you as per your taste but it should be healthy & homemade food of your mommy’s hand ( hmm… yumm..) – one plate should be full of fresh and raw veggies and another should be of healthy and tasty homemade food.  

in a meantime, after an hour or two, you can have snacks or dry fruits or juice whatever you like for re- freshening yourself.

At dinnertime, you should have low-calorie food and it should be tasty and healthy homemade,  mother’s hand food ( will be the best choice ) 
Make sure you’re not eating your food late, you shouldn’t be late for a meal as it is the question of your tummy and your body. If you ask me I’ll suggest don’t eat after 8 pm.

Don’t forget to have a walk before or after sleep. plus have a good sleep of at least 8 hours well, this thing we are fully aware of ” Early to bed and early to rise, makes a man healthy, wealthy, and wise.”.  so, you must go in the right direction.

Still, if you are seeking of some specific things like those cheapy weight gain powders or, products and all so it is useless, if regularly have a good diet, maintain good behavior, being active and spending some time with your close ones,  having food of your mother hand will only help you to be fit.  still, if you insist, then you can  have or try out natural and organic food  try to avoid as much junk food as you can ( so, let’s try to make some room for  natural things this time ) 

finally, the main point is just to live like a real man, be happy, be active, be independent and learn to live in the moment, stop worrying about such useless things, and mind you your real enemy is your fear. just try to defeat him. and don’t forget to stay healthy , just maintain your healthy diet .

 

अक्सर हमारे दिमाग में एक यही  बात खटकती  है कि हम स्वस्थ नहीं हैं या हम इतने कमजोर हैं, जब कभी भी लोगो से मिलते है या  देखते है तो आपका मज़ाक बन कर रह जाता है ,  और कम वजन, अधिक वजन या मोटापे इन सब के कारण आप हमेशा परेशान  और तनाव  में रहते है,  हमेशा सोचते हैं कि हम इतने अनफिट हैं और इस तरह  शरीर  के खराब आकार के कारण हमेशा बाहर जाने में असहज महसूस करते हैं और कतराते है , बाहर  आना जाना  , लोगो से मिलना- झूलना  रोक देते है यह सोचकर कि मज़ाक बन कर रह जाएँगे…..

ऐसी बातें सोचने से व्यक्ति और भी कमजोर होता  जाता है, जो आदमी को इस तरह के अप्रासंगिक तरीकों, गलत आहार, कम खाना  , गलत दवाएँ या   पाउडर का उपयोग करने के लिए मजबूर कर देते  है, जिस कारण सही पोषण या पोषक तत्व शरीर को ठीक समय पर नहीं मिल पाते  और हम  कई तरह के रोग जैसे गंजापन, अधिक तनाव, अवसाद, और ऐसे कई मानसिक विकारों के जाल में पड़ जाते हैं और अंत में, हम हार भी  मान लेते हैं।

स्वस्थ रहना और अच्छा  दिखना कौन  नहीं चाहता ? लेकिन क्या ये सब  इस गलत खाने वाली दुनिया में यह कभी सच होगा?

आज  लोग अपने जिंदगी के  रास्तो पे  गलत मार्ग पर  चल  रहे हैं,    खाना  गलत (फास्ट फूड), पीना गलत , गलत रहन  – सहन ,  गलत समय पर भोजन करना   , गलत दिनचर्या का पालन करना , ठीक साँस न लेना  (अब ये प्रदूषण है या लालच….. आप जो भी समझे ), और माँ के हाथ का खाना जो की  दुनिया का सबसे सेहतमंद और स्वादिष्ट खाना है , जिसमे उसका ढेरो सारा प्यार और आशीर्वाद है उससे   परहेज करते है । हमेशा बाहर का  खाना खाकर आते है , दोस्तों के साथ ख़राब खाना खाते है  दिन-ब-दिन आलसी होते जा रहे हैं और बस चाहते हैं कि सब कुछ अपने आप हो जाए।

गलत खान-पान, गलत समय, ओवरटाइम करना , रोज़ाना बस  यही टेंशन लेना , बस यही   काम – काम … इन सब  के ही बारे में  सोचना , इंसान ने बेफिज़ूल के दबाव  और  तनाव को अपने सर पर चढ़ा रखा है। वह अपने और अपनों के बारे में सोचता ही नहीं   , वह  तो सिर्फ धन – दौलत -शोहरत और शक्ति के बारे में सोच रहा है, वाह, (क्या लालच है।)


यही एक  कारण है कि आज इतनी अलग – अलग तरह की बीमारियों मनुष्य  को तो जैसे  जकड़ ही लिया है और अब हम इस भीषण और विशाल महामारी —-कोरोनावायरस को भी देख ही सकते है , की ये कितनी खतरनाक है।  और अब हमें इसका सामना अपने जीवन के अंत तक करना होगा  क्योंकि यह एक ऐसी चीज है जो कभी ख़तम  नहीं होगी । यह सिर्फ और सिर्फ लोगों के लोभ और स्वार्थी मन के कारण ही हो रहा है।
हम सिर्फ एक स्वार्थी परिवेश में हैं। , अच्छा स्वास्थ्य और अच्छा स्वभाव और खुशी ऐसी चीजें हैं जो हम चाहते हैं

सुबह – सुबह जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी उठो, अगर मेरी पूछो तो कम से कम 4 या 5 बजे उठो, क्योंकि यह उठने का सबसे अच्छा समय है।  सुबह उठते ही हमेशा गर्म पानी पिए, मॉर्निंग वॉक  , एक्सरसाइज , या मैडिटेशन करे इन सब से आपके   स्वास्थ में काफी सुधार आएगा , साथ ही अपने परिवार और अपने प्रियजनों के साथ कुछ समय   बिताएं, इससे आस – पास के वातावरण में सकारात्मकता का वास होगा।

प्रातः जल्दी उठकर ,ईश्वर  को प्रणाम करे और आपको एक नई  सुबह दिखाने  पर ,उन्हें  धन्यवाद करे साथ ही अपने माता –  पिता और अपने से बड़ों  का भी धन्यवाद कर उनको को    नमन करे ! सिर पर बड़ों का हाथ हमेशा से ही अच्छा मन गया है , यह आपके जीवन को सकारात्मकता और खुशियों से भर देगा।  

माना  जाता हैं की अगर  दिन की शुरआत ताली बजाने से हो तो अत्यंत शुभ होता हैइससे आपके घर व जीवन में सकारात्मकता का प्रभाव पड़ता है , यह  आपके  ब्लड –  सर्कुलेशन को   तेज होने में मदद करेगा , एक दम से ऊर्जा ही ऊर्जा मिलेगी, और  साथ ही आँखो का चश्मा भी हट जाएगा , दिन की शुरुआत  कम से कम  50 – 100  बार ताली बजा कर करे! 

रोज़ाना  व्यायाम, योग, आदि की आदत डाले  यह आपके  जीवन में   शांति लाएगा  और व्यायाम के लाभों से कौन  अवगत नहीं है, यह आपको एक अच्छा पोस्चर ,  तेज दिमाग, अच्छा व्यवहार भी दिलाएगा  साथ ही ये उन कष्टप्रद रोगो से भी छुटकारा दिलाता है  और …. भला हमें  क्या चाहिए ? ज्यादा नहीं….. तो काम से काम 10 -15 मिनट अपने आप को जरूर दे।  

व्यायाम, योग और अन्य प्रकार की चीजों के साथ-साथ आप अपने थाल और आप क्या  और किसका सेवन  करते    है उस पर भी एक नजर डालकर देखे। 

आप क्या खा रहे हे ? क्या यह आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा है या नहीं? क्या आप वाकई सही खाना खा रहे हैं या नहीं? क्या आप  नशीले परदात  जैसी हानिकारक चीजो का उपयोग तो नहीं कर रहे  या कुछ और है जो आपके शरीर और दिमाग और व्यवहार को नुकसान पहुंचाती है, जो आपके स्वस्थ को ख़राब कर आपके जीवन के उन कीमती पलो को  ख़राब करती है और  आपके प्रियजनों  को आपसे   दूर करती है।  

हमेशा खुश रहे और ओरो को भी खुश रखे। ….  जीवन सिर्फ एक है, यह वह खेल नहीं है (जिसमें  एक लाइफ चली गयी तो क्या  2 – 3 लाइफ तो अब भी बाकी है)    …. यह आपके एकमात्र जीवन का सवाल है।  इसलिए पल में जीना सीखो।

इस भाग – दौड़ वाली जिंदगी में हमें अपने आप के लिए कुछ समय जरूर निकालना चाहिए ,ज्यादा नहीं तो कम से कम  10 – 15 मिनट हमें अपने आप को जरूर देने चाहिए!

रात के भोजन में हल्का खाना खाना चाहिए और आपकी प्लेट में केवल  घर का स्वादिष्ट और देसी खाना होने चाहिए ,  घर का बना हेल्थी खाना खाए !

 खाना खाने के बाद तुरंत सोना नहीं चाहिए कम से कम  एक घंटा टहलना चाहिए !   

ध्यान रहे कभी भी रात 8 बजे के बाद खाना नहीं खाना चाहिए ! रात को जल्दी सोना चाहिए ,  सुबह जल्दी उतना चाहिए ! 

फिर भी…. , अगर  आप किसी  विशिष्ट चीजों को ढूंढ  रहे हैं जैसे कि  वो वजन बढ़ाने वाले पाउडर या  हॉर्लिक्स  और  वो सब , ….. तो यह सब बेकार है, यदि नियमित रूप से एक अच्छा आहार रहे ,  अच्छा व्यवहार बनाए रखें, सक्रिय सोच  रहें और अपनों  के साथ कुछ समय बिताएं, मां के हाथ का खाना ही आपको फिट रहने में मदद करेगा। फिर भी, यदि आप जोर देते हैं, तो आप प्राकृतिक और जैविक भोजन खा सकते हैं या कोशिश कर सकते हैं जितना हो सके जंक फूड से बचने की कोशिश करें (  जंक फ़ूड तो खाकर देख लिया , इस बार प्राकृतिक चीजोंको भी देख ही लेते है ) 

अंत में,  मुख्य मकसद यही समझाना है की खुल कर जियो ,  खुश रहो , आबाद रहो  सक्रियसोच रखो , स्वतंत्र होना और पल में जीना सीखो, ऐसी बेकार चीजों के बारे में चिंता करना बंद करो, और ध्यान रखें कि आपका असली दुश्मन आपका डर है। बस उसे हराने की कोशिश करो। स्वस्थ रहे , कुश रहे एंड अपनी हेअल्थी डाइट मेन्टेन करना मत भूलना।  

Leave a Reply